जम्मू -कश्मीर के जिला विकास परिषद ( डीडीसी) के चुनाव में भाजपा राज्य में सबसे बड़ा दल बनकर उभरी - Daily Hindi Paper | RPSC Online GK in Hindi | GK in Hindi l RPSC Notes in Hindi

Breaking

बुधवार, 23 दिसंबर 2020

जम्मू -कश्मीर के जिला विकास परिषद ( डीडीसी) के चुनाव में भाजपा राज्य में सबसे बड़ा दल बनकर उभरी

 'डीडीसी के चुनाव में भाजपा राज्य में सबसे बड़ा दल बनकर उभरी है। भाजपा को इस चुनाव में 74 सीटें मिली


नेशनल कांफ्रेंस ( एनसी) को 67 , 


पीपुल्स डेमोक्रेटिक पार्टी (पीडीपी) को 27 और कांग्रेस को 26 सीटें मिलीं। 


49 सीटें निर्दलीयों को मिली हैं जिनमें कईं भाजपा समर्थित हैं। '


भारतीय जनता पार्टी ( भाजपा ) ने कहा है कि जम्मू -कश्मीर के जिला विकास परिषद ( डीडीसी) के चुनाव में लोकतंत्र की जीत हुई है और जनता ने इसके जरिए अलगाववादियों और आतंकवादियों को करारा तमाचा मारा है। ।

भाजपा के वरिष्ठ नेता रविशंकर प्रसाद ने बुधवार को यहां संवाददाता सम्मलन में कहा कि जम्मू कश्मीर में संपन्न हुए डीडीसी चुनाव आशा की जीत है। उन्होंने कहा कि जम्मू- कश्मीर में जम्हूरियत नयी अँगड़ाई ले रहा है। पहले वहां हाथ में पत्थर देखे जाते थे लेकिन अनुच्छेद 370 के हटने के बाद वहां बैलेट दिखाई दे रहा है और कश्मीर बदल रहा है।

भाजपा के वरिष्ठ नेता रविशंकर प्रसाद


श्री प्रसाद ने कहा कि 'डीडीसी के चुनाव में भाजपा राज्य में सबसे बड़ा दल बनकर उभरी है। भाजपा को इस चुनाव में 74 सीटें मिली जबकि नेशनल कांफ्रेंस ( एनसी) को 67 , पीपुल्स डेमोक्रेटिक पार्टी (पीडीपी) को 27 और कांग्रेस को 26 सीटें मिलीं। 49 सीटें निर्दलीयों को मिली हैं जिनमें कईं भाजपा समर्थित हैं। '

उन्होंने कहा कि 'गुपकार गठबंधन इसलिए बना था क्योंकि भाजपा से इस गठबंधन के दल अकेले नहीं लड़ सकते थे। इसके बावजूद भाजपा को इतने मत मिले जो एनसी , पीडीपी और कांग्रेस के संयुक्त मतों से ज्यादा है। भाजपा को चार लाख 87 हज़ार तीन सौ 64। नेशनल कांफ्रेंस को दो लाख 82 हज़ार पांच सौ 14, पीडीपी को 57 हज़ार सात सौ 89 और कांग्रेस को एक लाख 39 हज़ार तीन सौ 82 मत मिले। मुझे प्रसन्नता है कि कश्मीर घाटी में कमल खिला है। इससे स्पष्ट है कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के प्रति कश्मीर के लोगों की आस्था है। इसके लिए जम्मू कश्मीर की जनता को अभिनंदन। '

श्री प्रसाद ने कहा कि 'आतंकवाद प्रभावित इलाकों में भी जम्मू कश्मीर की जनता ने बेहद उत्साह के साथ चुनावों में भाग लिया। कुलगाम में 28.9 फीसदी , शोपिया में 17.5 ,उत्तर कश्मीर के सोपोर में 23.8 जबकि बांदीपुरा में 51.7 फीसदी मतदान हुआ। वहां की जनता ने बढ़चढ़ कर मतदान किया क्योंकि पहली बार जमीन पर ईमानदार तरीके से चुनाव संपन्न होते देखा गया। '

उन्होंने कहा कि '2018 में जम्मू कश्मीर में राष्ट्रपति शासन के दौरान जब पंचायत चुनाव संपन्न हुए तब विपक्ष दलों ने इसका विरोध किया था। पंचायत चुनावों के बाद पहली बार केन्द्र से पंचायतों के पास पैसा पहुंचने लगा। इससे विकास के काम हुए जिसे जनता ने महसूस किया। डीडीसी के चुनाव नतीजों से स्पष्ट है कि जनता ने राज करने वालों और काज करने वालों के बीच अंतर को समझा है। लोगों ने सालों बाद केन्द्र का पैसा गांव तक पहुंचते देखा है। इससे लोकतंत्र में लोगों की आस्था पनपी है। कश्मीर में नया नेतृत्व विकसित हो रहा है। '

श्री प्रसाद ने कहा कि 'पिछले कुछ महीनों में बिहार विधानसभा समेत समेत ग्यारह राज्यों में हुए उपचुनावों और देश के विभिन्न राज्यों में हुए स्थानीय निकाय और पंचायत चुनावों में भाजपा को बेहतरीन कामयाबी मिली है। इससे साबित होता है कि जनता मोदी जी की अगुवाई वाली साढ़े छह साल की सरकार और भाजपा में विश्वास जता रही है। '