प्रेस ट्रस्ट ऑफ इंडिया का इतिहास: PTI के बारे में जानकारी | PTI Kya Hai - Daily Hindi Paper | RPSC Online GK in Hindi | GK in Hindi l RPSC Notes in Hindi

Breaking

मंगलवार, 1 मार्च 2022

प्रेस ट्रस्ट ऑफ इंडिया का इतिहास: PTI के बारे में जानकारी | PTI Kya Hai

 प्रेस ट्रस्ट ऑफ इंडिया का इतिहास : PTI के बारे में जानकारी 

प्रेस ट्रस्ट ऑफ इंडिया का इतिहास: PTI के बारे में जानकारी | PTI Kya Hai


प्रेस ट्रस्ट ऑफ इंडिया PTI

  • प्रेस ट्रस्ट ऑफ इंडिया (PTI) भारत की प्रमुख समाचार एजेंसी है।
  • वर्तमान में, भारत में भारत के कुल न्यूज़ एजेंसी बाज़ार में PTI की हिस्सेदारी लगभग 90 प्रतिशत है।
  • इसे वर्ष 1947 में पंजीकृत किया गया था और 1949 में इसने काम करना शुरू कर दिया।


प्रेस ट्रस्ट ऑफ़ इंडिया PTI Kya Hai

  • प्रेस ट्रस्ट ऑफ़ इंडिया' भारत की सबसे बड़ी प्रमुख समाचार संस्था है। एशिया महाद्वीप के समाचार अभिकरणों में पहला स्थान रखती है। पीटीआई के ग्राहकों में 500 समाचार पत्र व बीसीयों विदेशी समाचार समितियाँ शामिल हैं। संस्था अपनी स्वयं की उपग्रह डिलीवरी का प्रयोग करती है. 

 

भारत में मीडिया की स्वतंत्रता:

वर्ष 1950 के रोमेश थापर बनाम मद्रास राज्य मामले में सर्वोच्च न्यायालय ने कहा कि सभी लोकतांत्रिक संगठनों की नींव प्रेस की स्वतंत्रता पर आधारित होती है।

भारतीय संविधान के अनुच्छेद-19 के तहत भाषण और अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता की गारंटी दी गई है।

प्रेस की स्वतंत्रता को भारतीय कानूनी प्रणाली द्वारा स्पष्ट रूप से संरक्षित नहीं किया गया है, परंतु यह संविधान के अनुच्छेद 19 (1) (ए) के तहत संरक्षित (उपलक्षित रूप में) है, जिसमें कहा गया है - "सभी नागरिकों को अभिव्यक्ति और अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता का अधिकार होगा"।

हालाँकि प्रेस की स्वतंत्रता भी असीमित नहीं है। अनुच्छेद-19(2) के तहत कुछ विशेष मामलों में इस पर प्रतिबंध लागू किये जा सकते हैं, जो इस प्रकार हैं-

भारत की संप्रभुता और अखंडता से संबंधित मामले, राज्य की सुरक्षा, विदेशी राज्यों के साथ मैत्रीपूर्ण संबंध, सार्वजनिक व्यवस्था, शालीनता या नैतिकता या न्यायालय की अवमानना, मानहानि या अपराध के जुड़े मामलों में आदि।


भारतीय प्रेस परिषद (PCI):

यह एक नियामकीय संस्था है जिसे 'भारतीय प्रेस परिषद अधिनियम 1978' के तहत स्थापित किया गया है।

इसका उद्देश्य प्रेस की स्वतंत्रता को बनाए रखना और भारत में समाचार पत्रों तथा समाचार एजेंसियों के मानकों को बनाए रखना और इसमें सुधार करना है।