नाबालिक प्रेमिका ने प्रेमी से करवाई माँ-बाप की हत्या - Daily Hindi Paper | RPSC Online GK in Hindi | GK in Hindi l RPSC Notes in Hindi

Breaking

शनिवार, 19 दिसंबर 2020

नाबालिक प्रेमिका ने प्रेमी से करवाई माँ-बाप की हत्या

Indore: नाबालिक युवती ने प्रेमी से करवाई माँ-बाप की हत्या, युवती ने पिता पर लगाए संगीन आरोप 


  • केंद्रीय विद्यालय में 10 वी की छात्रा है युवती 
  • नींद की गोली खिलाकर कीमती सामान बटोर रहे थे तब माँ -बाप जाग गये 
  • राजस्थान भागने की फ़िराक में थे दोनों 
  • युवती ने पिता पर लगाया दुष्कर्म का आरोप 


पंद्रहवीं बटालियन के सिपाही ज्योतिप्रसाद शर्मा और उनकी पत्नी नीलम की हत्या करने वाला धनंजय यादव उर्फ डीजे और ज्योति की बेटी (नाबालिग) ने हत्या स्वीकार ली है। आरोपित किशोरी ने ही हत्या का षड्यंत्र रचा था। हत्या के बाद दराता और चाकू सुपर कॉरिडोर पर फेंक दिया था, आरोपी  बाइक से भागते पकड़ाए हैं।

युवती के माता -पिता 

DIG हरिनारायणाचारी मिश्र के मुताबिक एरोड्रम थाना क्षेत्र स्थित रुक्मणी नगर में गुरुवार तड़के 45 वर्षीय ज्योतिप्रसाद शर्मा और उनकी पत्नी नीलम के उनके घर में ही रक्तरंजित अवस्था में शव मिले थे। घटना के बाद से उनकी बेटी गायब थी। वह केंद्रीय विद्यालय में दसवीं की छात्रा हैं। वह एक पत्र भी लिखकर गई थी। उसमें पिता पर दुष्कर्म का आरोप लगाया था।

देर रात दोनों को पुलिस ने मंदसौर और नीमच के बीच से उस वक्त पकड़ लिया, जब राजस्थान भागने की फिराक में थे। पूछताछ में लड़की ने कहा मैंने ही डीजे को बुलाया था। रात को पापा शराब के नशे में थे। वो अक्सर शराब पीकर आते थे। घर में मम्मी-पापा का रोजाना झगड़ा होता था। मैं रोजाना के विवादों से तंग आ गई थी। मेरे साथ भी उनका व्यवहार ठीक नहीं था। इस कारण मैंने डीजे से दोनों को मरवा दिया। डीजे ने कहा कि लड़की से प्रेम करता हूं। उसकी परेशानी देखी नहीं गई।

डीजे से राेज मिलती थी युवती 

मोहल्ले के युवाओं ने बताया कि डीजे गली में किसी युवक के यहां आता-जाता था। इसी दौरान मृतक की नाबालिग बेटी का उससे अफेयर शुरू हुआ। पिता को इसकी भनक लगी तो उन्होंने बेटी पर बंदिशें लगानी शुरू किया, लेकिन बेटी नहीं मानती थी। वह रोजाना डीजे से संपर्क में रहती थी। पता चला है कि दो दिन पहले भी उन्होंने बेटी और डीजे का साथ देखा था। विवाद हुआ और डीजे ने देख लेने की बात कही थी।


योजनाबद्ध तरीके से घटना को दिया गया अंजाम 


सूत्रों के मुताबिक लड़की ने थाने में कहा कि पिता मेरे साथ गलत काम करते थे। मां उनका साथ देती थी। मुझे दोनों से नफरत होने लगी थी। पुलिस के मुताबिक हत्या दराते और चाकू से की है। आरोपित हथियार भागते वक्त सुपर कॉरिडोर पर फेंकना बता रहे हैं।

पुलिस के अनुसार इस हत्याकांड को योजनाबध्द तरीके से अंजाम दिया गया। मृतकों की नाबालिग बेटी के मन में माता-पिता के प्रति कितना गुस्सा भरा हुआ था कि उसने उनकी हत्या तक की योजना बना ली थी। शातिर बेटी ने अपने प्रेमी धनंजय के साथ भागने की योजना बना ली थी और धनंजय से नींद की गोलियां लाकर देने को कहा था ताकि वह ये गोलियां माता-पिता के खाने में मिलाकर दोनों को नींद में सुला दे और फिर दोनों माल बटोरकर रफूचक्कर हो जाएं। चूंकि दवा की दुकान से डॉक्टर की पर्ची के बिना नींद की गोलियां नहीं मिलती है। इसलिए दवा की दुकान वाले ने धनंजय को साधारण तरह की गोलियां दे दीं। बेटी ने ये गोलियां माता-पिता के रात के खाने में मिला दी लेकिन आरोपित को यह पता नहीं था कि जो गोलियां वे खरीदकर लाए हैं, वे बेअसर है। योजनानुसार धनंजय अपनी प्रेमिका के घर पहुंच गया। जब दोनों माल बटोरने में लगे थे, तभी खटपट की आवाज सुनकर ज्योति की नींद खुल गई। यह माजरा देखकर ज्योति और धनंजय के बीच हाथापाई हुई। ज्योति संभल पाता इससे पहले ही तैयारी के साथ आए धनंजय ने ज्योति पर ताबड़तोड़ धारदार हथियार से वार कर दिए। तब तक नीलम की भी नींद खुल गई थी और वह बीच-बचाव करती। आरोपित ने नीलम पर भी घातक वार किए। घटनाक्रम इतनी तेजी से हुआ कि दोनों को बचाव करने का मौका ही नहीं मिला। इस दौरान शातिर बेटी घर के बाहर कुत्ते को घुमाने निकल गई और आरोपित ने दोनों को हमेशा के लिए गहरी नींद में सुला दिया।

युवती का भाई 

बेटे ने देखा था सबसे पहले घटना

बेटे रिषभ ने बताया था कि मैं रोज की तरह दादा-दादी के घर सो रहा था। पता चला कि मां का दरवाजा नहीं खुला है। मैं बाहर से आया। देखा कि अंदर के दरवाजे पर ताला लगा है। खिड़की से झांका तो देखा कि पापा नीचे और मम्मी पलंग पर पड़े थे। दोनों के शव चद्दर से लिपटे हैं और सिर में खून निकल रहा है। मुझे कुछ नहीं सूझा। मैंने बाहर जाकर पत्थर उठाया और ताला तोड़ दिया। फिर चाचा को फोन लगाया। फिर पड़ोसी आए और किराएदार ने पुलिस को फोन लगाया।