निंदक नियरे राखिए दोहे का हिन्दी अर्थ एवं व्याख्या | Ninda Nayre Rakhiye Dohe Ka Hindi Arth Evam Vyakshya - Daily Hindi Paper | RPSC Online GK in Hindi | GK in Hindi l RPSC Notes in Hindi

Breaking

शुक्रवार, 24 सितंबर 2021

निंदक नियरे राखिए दोहे का हिन्दी अर्थ एवं व्याख्या | Ninda Nayre Rakhiye Dohe Ka Hindi Arth Evam Vyakshya

निंदक नियरे राखिए दोहे का हिन्दी अर्थ एवं व्याख्या

निंदक नियरे राखिए दोहे का हिन्दी अर्थ एवं व्याख्या | Ninda Nayre Rakhiye Dohe Ka Hindi Arth Evam Vyakshya



 निंदक नियरे राखिएआँगन कुटी छवाय 1 । 

बिन पानी साबुन बिनानिरमल करत सुभाय ।। 

 


निंदक नियरे राखिए का अर्थ 

  • आपने अनुभव किया होगा कि अधिकतर लोगों को अपनी प्रशंसा बहुत अच्छी लगती हैजबकि अपनी आलोचना करने वालों को कोई पसंद नहीं करता। यों भी समाज में ऐसे लोग तो अक्सर मिल जाते हैंजो मुँह पर तारीफ करते हैं और पीठ पीछे निंदा। मगर ऐसे लोग बड़ी मुश्किल से मिलते हैंजो सामने ही हमारी आलोचना करेंहमारी कमियाँ बताएँ प्रायः हम ऐसे लोगों से मिलने से कतराते हैंउन्हें पसंद नहीं करते।

 

  • कबीर ने ऐसे आलोचकों से बचने की नहींबल्कि उनको अपने नज़दीक रखने की आवश्यकता पर बल दिया है। वे कहते हैं कि निंदक को तो आँगन में कुटी बनवाकर अपने पास ही रखना चाहिएनिंदा से हमें अपनी कमियों का पता चलता है और हम उन्हें दूर कर लेते हैं। इस प्रकारसाबुन और पानी के बिना ही वे हमारे स्वभाव को निर्मल बना देते हैं।

 

  • अब ज़रा सोचिए कि आदमी अपना शरीर तो साबुन पानी से साफ़ कर लेता हैपर वह अपने व्यवहारआदतों और स्वभाव की कमियों और बुराइयों से कैसे छुटकारा पाए आदमी को अपनी कमियाँकमजोरियाँबुराइयाँ खुद तो दिखती नहीं। दूसरे लोग आम तौर पर उसके सामने इनका उल्लेख नहीं करते। केवल आलोचक ही हैंजिनसे हमें पता चलता है कि हममें कहाँ और क्या कमी हैतो फिर उनसे कतराएँ क्योंक्यों न उनकी सुनेंजिससे हमें अपनी कमियों का पता चले और हम उनको दूर करने का प्रयास करें और अपने स्वभाव को निर्मल बनाएँ। इस दोहे में कबीर हमसे यही कहना चाहते

 

 निंदक नियरे राखिए दोहे की व्याख्या 


1. प्रस्तुत दोहे में निंदक से दूर रहने के प्रचलित रिवाज़ के विपरीत उससे लाभ उठाने का संदेश दिया गया है।

 

2. कविता में जहाँ पास-पास आने वाले शब्दों में एक ही वर्ण का बार-बार दुहराव ( आवृत्ति) होवहाँ अनुप्रास अलंकार होता है। यहाँ 'निंदक नियरेमें 'वर्ण की आवृत्ति से अनुप्रास अलंकार है।

 

3. प्रस्तुत दोहे में 'आत्म-बोधऔर 'विश्लेषणात्मक चिंतनजैसे जीवन-कौशलों को उभारा गया है।