राजस्थान के प्रमुख त्यौहार एवं उनकी तिथियाँ।Rajsthan Ke Pramukh Tyohaar - Daily Hindi Paper | RPSC Online GK in Hindi | GK in Hindi l RPSC Notes in Hindi

Breaking

बुधवार, 19 जनवरी 2022

राजस्थान के प्रमुख त्यौहार एवं उनकी तिथियाँ।Rajsthan Ke Pramukh Tyohaar

राजस्थान के प्रमुख त्योहार एवं उत्सव

राजस्थान के प्रमुख  त्यौहार एवं उनकी तिथियाँ।Rajsthan Ke Pramukh Tyohaar


 

राजस्थान के प्रमुख त्योहार एवं उत्सव

  • यद्यपि राजस्थान की मरूभूमि शुष्क है फिर भी उत्सवों त्योहारों एंव पारस्परिक मेल-मिलाप से रंग-रसमय है। राजस्थान में हिन्दू मुस्लिम और इसाइयों के सभी त्यौंहार उत्साहउल्लासपूर्वक प्रेम भाई चारे के साथ सोहार्दपूर्ण वातावरण में मनाकर मानवीय एकतासहिष्णुता का प्रदर्शन करते हैं ।

 

  • यहाँ के प्रमुख लोकोत्सव में गणगौर और तीज का महत्वपूर्ण स्थान है। गणगौर का उत्सव होलिकात्सव लेकर चैत्र शुक्ला तृतीया तक चलता है। सधवास्त्रियाँ और कुमारियां सुहाग की अमरता एवं अच्छे वर की अभिलाषा में ईसर - ईसरी जी की पूजा करती है।
  • यह उत्सव जयपुरजोधपुरउदयपुर और कोटा में गणगौर की सवारी निकालकर बड़ी धूम-धाम से मनाया जाता है। तीज का त्यौंहार भाद्रपद कृष्णा तृतीया को बालिकाएँ एवं नवविवाहिताएँ प्रकृति के प्रांगण में गीतों का गायनकरझूलों में झूलकरनवीन पोशाक पहन करऔर मेहन्दी रचाकर मनाती हैं। जयपुर की तीज की सवारी प्रसिद्ध हैं।

 

राजस्थान के धार्मिक त्योहारों के अन्तर्गत

  • हिन्दू दीपावलीहोलीदशहराअक्षयतृतीयारक्षाबन्धनजन्माष्टमीगणेश चतुर्थीशरदपूर्णिमाबसन्तपंचमीनागपंचमीरामनवमीहनुमान जयन्तीशिवरात्रीअन्नकूट महोत्सव और गोवर्धन पूजा आदि परम्परागत तरीके से हर्षोल्लासपूर्वक मनाते हैं।

 

  • जैन समाज में महावीर जयन्ती तथा भाद्रपद मास में पर्युषण पर्व व्रततप और अर्चना के सा मनाते है। मुस्लिम समाज के प्रमुख त्यौहार इदुलजुहाइदुलफितरशबेरातमोहर्रम और बारावफात उत्साह एवं भाईचारापूर्वक मनाए जाते हैं। इन त्योहारों में सभी समाज के लोगों में प्रेमउल्लास और आनन्द का संचार होता है सामाजिक समरसता का विकास होता है तथा धार्मिक श्रद्धा का संचार होता है। 


राजस्थान के प्रमुख त्यौहार एवं उनकी तिथियाँ निम्न है: 

  • गणगौर-फाल्गुन शुक्ल 15 से चैत्र शुक्ला 3 तक 
  • महाशिवरात्री फाल्गुन कृष्ण पक्ष - 13 (त्रयोदशी) 
  • दीपावली -कार्तिक कृष्ण पक्ष अमावस्या 
  • रक्षाबन्धन -श्रावणमास पूर्णिमा 
  • होली -फाल्गुनमास पूर्णिमा 
  • जन्माष्टमी  -भाद्रपद कृष्णपक्ष अष्टमी 
  • गणेश चतुर्थी -भाद्रपद शुक्लपक्ष चौथ
  • रामनवमी - चेत्र शुक्ल पक्ष नवमी
  • तीज- भाद्रपद कृष्णपक्ष तृतीया
  • पर्युषण - भाद्रपद मास 
  • दशहरा- आश्विन शुक्लपक्ष दशमी