Lata Mangeshkar News in Hindi :सुर-साम्राज्ञी लता मंगेशकर का निधन, काफी दिनों से खराब थी तबीयत - Daily Hindi Paper | RPSC Online GK in Hindi | GK in Hindi l RPSC Notes in Hindi

Breaking

रविवार, 6 फ़रवरी 2022

Lata Mangeshkar News in Hindi :सुर-साम्राज्ञी लता मंगेशकर का निधन, काफी दिनों से खराब थी तबीयत

 Lata Mangeshkar News in Hindi

Lata Mangeshkar News in Hindi :सुर-साम्राज्ञी लता मंगेशकर का निधन, काफी दिनों से खराब थी तबीयत



लता मंगेशकर का निधन

अपनी सुरीली आवाज से देश-दुनिया पर दशकों तक राज करने वाली सुर-साम्राज्ञी लता मंगेशकर का निधन (Lata Mangeshkar Passed Away) हो गया। 'भारत रत्न' से सम्माकनित वेटरन गायिका ने मुंबई के ब्रीच कैंडी अस्पयताल में अंतिम सांस ली। वह 92 वर्ष की थीं। 'भारत की नाइटिंगेल' के नाम से दुनियाभर में मशहूर लता मंगेशकर ने करीब पांच दशक तक हिंदी सिनेमा में फीमेल प्लेेबैक सिंगिंग में एकछत्र राज किया। भारतीय सिनेमा की बेहतरीन गायिकाओं में शुमार लता मंगेशकर ने 1942 में महज 13 साल की उम्र में अपने करियर की शुरुआत की थी। उन्होंने कई भारतीय भाषाओं में अब तक 30 हजार से ज्यादा गाने गाए हैं। लता को भारत की सुर साम्राज्ञीके नाम से जाना जाता है। उन्हें देश के सर्वोच्च नागरिक सम्मान भारत रत्न से भी नवाजा जा चुका है। इसके अलावा उन्हें पद्म भूषण, पद्म विभूषण और दादा साहेब फाल्के पुरस्कार से भी सम्मानित किया जा चुका है।

 

काफी दिनों से खराब थी तबीयत

जनवरी में कोरोना पॉजिटिव पाए जाने के बाद उन्हें मुंबई के एक अस्पताल में भर्ती कराया गया था। बाद में वह न्यूमोनिया से पीड़ित हो गईं। हालत बिगड़ने के बाद उन्हें वेंटिलेटर सपोर्ट पर रखा गया था। उनकी हालत में सुधार के बाद वेंटिलेटर सपोर्ट भी हट गया था। लेकिन 5 फरवरी को उनकी स्थिति बिगड़ने लगी और उन्हें फिर से वेंटिलेटर सपोर्ट पर रखा गया। आखिरकार, 6 फरवरी को 'स्वर कोकिला' ने आखिरी सांस ली।

 यह भी पढ़ें 

लता मंगेशकर का संक्षिप्त जीवन परिचय 


दिग्ग्ज हस्तियों ने दी श्रद्धांजलि

लता के निधन पर भारत समेत दुनियाभर की दिग्गज हस्तियों ने शोक जताया है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने लता के साथ कई तस्वीसरें ट्वीट करते हुए लिखा, 'दयालु और सबका ध्या्न रखने वाली लता दीदी हमें छोड़ गई हैं। वह हमारे देश में ऐसी शून्यसता छोड़ गई हैं जो कभी भर नहीं सकेगी।' केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी ने लिखा, 'उनका जाना देश के लिए अपूरणीय क्षति है। वे सभी संगीत साधकों के लिए सदैव प्रेरणा थी। लता दीदी प्रखर देशभक्त थी। उनका जीवन अनेक उपलब्धियों से भरा रहा है। लता जी हमेशा ही अच्छे कामों के लिए हम सभी को प्रेरणा देती रही हैं। भारतीय संगीत में उनका योगदान अतुलनीय है। 30 हजार से अधिक गाने गाकर उनकी आवाज ने संगीत की दुनिया को सुरों से नवाजा है। लता दीदी बेहद ही शांत स्वभाव और प्रतिभा की धनी थी।' शिवसेना के प्रवक्तात एवं राज्यासभा सांसद संजय राउत ने लिखा, 'तेरे बिना भी क्याक जीना...'